Saturday, May 25, 2024
Homeउत्तर प्रदेशनसीराबाद-अधीक्षक बदले तो अस्पताल ही बदल गया

नसीराबाद-अधीक्षक बदले तो अस्पताल ही बदल गया

नसीराबाद रायबरेली। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नसीराबाद के चिकित्सा अधीक्षक के बदलते ही अस्पताल का नजारा भी बदल गया। पुराने चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर संजय जायसवाल के कार्यकाल में जहां पूरे अस्पताल में गंदगी का साम्राज्य फैला हुआ था, तरह-तरह के भ्रष्टाचार उजागर हो रहे थे, डॉ. मोहित सिंह जैसे कुछ चिकित्सा कर्मियों को छोड़कर अधिकांश लोग अपने दायित्व के प्रति उदासीन थे, वहीं स्थिति अब पूरी तरह बदल गई है। ऐसा नहीं है कि प्रभारी चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर आशीष कुमार को कोई जादू की छड़ी मिल गई है। वे स्वयं ड्यूटी पर पूरी तरह मुस्तैद रहते हैं और मरीज को किसी प्रकार की कठिनाई न हो इसका ध्यान रखते हैं, इसी से प्रभावित होकर लगभग सारे कर्मचारियों ने अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभाना शुरू कर दिया है। स्वास्थ्य सुविधाएं आम आदमी के लिए एक जैसी मुहैया हैं और 24 घंटे चिकित्सक और कर्मचारी जनता की सेवा के लिए तत्पर रहते हैं। अस्पताल में आए कुछ मरीज और तीमारदार अरविंद कुमार, राजेंद्र, नाथू, गीता देवी आदि ने बताया कि पहले आते थे तो बड़ी मुश्किल से सुनवाई होती थी।बड़े डॉक्टर से तो मिलना ही कठिन था और आज आए हैं तो लगता है कि एकदम से बदलाव आ गया है। डॉक्टर को दिखाने से लेकर दवा लेने तक कोई परेशानी नहीं हो रही है। परिसर में उगी हुई बड़ी-बड़ी झाड़ियां और गंदगी साफ करके अस्पताल जैसा माहौल बनाया गया है। काम करने की भावना हो तो उपलब्ध संसाधनों के द्वारा ही अपना दायित्व अच्छी तरह से निभाया जा सकता है। इस समय यह अस्पताल इस बात का जीता जागता सबूत है।
डॉक्टर जोहैब रोशन का सरल व्यवहार और चिकित्सकीय गुण मरीजों पर दवाओं से अधिक असर डालता है। फार्मासिस्ट प्रभात नारायण, शैलेंद्र सिंह और पैथोलॉजिस्ट सभी सराहनीय कार्य कर रहे हैं। यद्यपि महिला चिकित्सक और एक संविदा चिकित्सक के रवैये में अभी सुधार नहीं हुआ है लेकिन उम्मीद है कि निकट भविष्य में वे भी अपनी जिम्मेदारी पूरी तरह से निभाने लगेंगे।

uploktantra
Author: uploktantra

spot_img
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

Live Tv

Download ID

spot_img

आपकी राय

Cricket Live

Market Live

Rashifal

यह भी पढ़े